Bookmark and Share

rutgers

न्यूजर्सी। तीन दिन के अंतरराष्ट्रीय हिन्दी सम्मेलन का आगाज़ हिन्दी को लोकप्रिय, व्यावहारिक और प्रभावी बनाने की चर्चा के साथ शुरू हुआ था और समापन न्यूजर्सी इलाके में लगभग 4 मिलियन डॉलर के एक हिन्दी केन्द्र की स्थापना के प्रस्ताव और संकल्प के साथ। इन तीन दिनों में हिन्दी के लगभग हर पहलू पर चर्चा हुई। हिन्दी के साथ ही उर्दू की स्वीकार्यता पर भी मंथन हुआ। भारत के न्यूयॉर्क स्थित काउंसल जनरल ज्ञानेश्वर मुले उद्घाटन और समापन सत्र में मौजूद रहे। (ये वही ज्ञानेश्वर मुले हैं जिन्होंने यूएन में भारतीय प्रधानमंत्री अटलबिहारी वाजपेयी के पहले हिन्दी भाषण का लेखन किया था)

वेबदुनिया द्वारा शुरू की गई पहल की जब भी चर्चा हुई, तालियों से उसका अभिनंदन किया गया। रटगर्स, कोलंबिया, न्यूयॉर्क, पेंसिल्वेनिया और वाशिंगटन विश्वविद्यालयों के प्राध्यापकों और अनेक हिन्दी शिक्षकों ने बताया कि वे हिन्दी के विद्यार्थियों को वेबदुनिया पोर्टल पढ़ने की सलाह देते हैं और वेबदुनिया के माध्यम से आसानी से हिन्दी पढ़ाते समझाते हैं।

सम्मेलन में भारत में हिन्दी की स्थिति पर भी चर्चा हुई और दुनिया के अन्य देशों में हिन्दी के उपयोग पर भी। मॉरीशस में हिन्दी की जगह अंग्रेजी और फ्रेंच को बढ़ावा देने की नीति का विरोध हुआ और यूएसए में हिन्दी को बढ़ावा और बजट देने की सराहना की गई। फिजी, सेशेल्स, गुयाना में हिन्दी में हो रहे अध्ययन-अध्यापन की भी चर्चा हुई।

सम्मेलन में हिन्दी का व्यवहार बढ़ाने पर चर्चा हुई। हिन्दी का शिक्षण कैसे बढ़े, हिन्दी का उपयोग कारोबार, प्रशासन, मनोरंजन, साहित्य आदि में कैसे बढ़े, इस पर 15 से ज़्यादा सत्रों में विषयवार चर्चा हुई। हिन्दी के बढ़ते संसार की चुनौतियों का मुकाबला करने और संभावनाओं की तलाश करने के क्रम में विचारकों ने सूक्ष्म से सूक्ष्मतम बिंदुओं तक को छुआ। विदेश में रह रहे भारतीय कैसे अपने बच्चों को और अच्छी हिन्दी के लिए प्रेरित करें, बैंकिंग, कारोबार, मनोरंजन में हिन्दी कैसे बढ़े और इन क्षेत्रों के विशेषज्ञों के अनुभव क्या रहे, यह चर्चा के सत्र रहे। अनुवाद के सत्र में साहित्य अनुवाद से लेकर गज़ट के अनुवाद और फिल्मों की डबिंग पर भी चर्चा हुई।

1428348399-8045

हिन्दी और तकनीक सत्र की शुरुआत इंटरनेट की हिन्दी विषय पर हुई जिसमें प्रकाश हिन्दुस्तानी ने अनुभव और शोध के निष्कर्ष बताते हुए हिन्दी के तथाकथित मानकीकरण के नाम पर हिंग्लिश का व्यवहार बढ़ाने की आलोचना की। हिन्दी के ऑनलाइन शिक्षण की सुविधाओं और प्रयोगों पर दिल्ली विश्वविद्यालय की डॉ. हर्षबाला शर्मा ने अनुभव बताए। हिन्दी सिखानेवाले ऐप पर तेजू प्रसाद ने प्रस्तुति दी और अपने बनाए ऐप का प्रदर्शन किया।

सम्मेलन में विदेशी मूल के विद्यार्थियों ने हिन्दी में अपने विचार रखे। उनमें से कई विद्यार्थी भारत की यात्रा हिन्दी सीखने के लिए भी कर चुके हैं। समापन शंकर शेष के नाटक रक्तबीज की नाट्य प्रस्तुति से हुआ, जिसे इंदौर की संस्था प्रयोग की यूएस इकाई के अमेय मेहता ने निर्देशित किया था।

 

NEW JERSEY TO HAVE ‘INTERNATIONAL HINDI CENTER’

PRESS RELEASE

usa

New Brunswick, NJ. Hundreds of academicians, business professionals, public officials and community leaders unanimously adopted a resolution to establish an ‘International Hindi Center’, as a vibrant hub of academic and cultural activities focused on promoting Hindi as a world language. The delegates of the Second International Hindi Conference held at Rutgers University campus in New Jersey from April 3 to 5, 2015, unanimously approved the resolution as Ambassador Dnyaneshwar Mulay, Consul-General of India, who chaired the event, formally declared it adopted at the concluding session on April 5, the final day of the three-day event. Organized by Hindi Sangam Foundation, a community organization dedicated to promotion of Hindi in USA, the conference was sponsored by Rutgers University, a number of US and India based universities, corporations and institutions, such as, Air India, Bank of India, State Bank of India, TV Asia and Bharatiya Vidya Bhavan. The consulate general of India actively supported the event.

Ambassador Mulay assured the audience that the Government of India would support the establishment of ‘Hindi Center’ in USA. Promising to use his good offices for raising funds for the center, Mulay said, “Hindi Center will become a reality soon where all educational activities regarding Hindi learning including exchange programs and joint projects with India based institutions and universities will take place under one roof.” Mulay, an accomplished author and poet, also inaugurated the conference on August 3 at the Rutgers University campus in New Brunswick, where senior Rutgers University officials elaborated upon growing relationship between Rutgers and various institutions in India. Dr. Joanna Regulska, Rutgers University Executive Vice President for International and Global Affairs, expressed her happiness over the strong support extended by Government of India to Rutgers.

According to a blueprint presented by Dr. Ved Chaudhary, a Hindi Sangam Foundation official, an independent facility for the center would cost over four million Dollars to construct in Central New Jersey, where Rutgers is located. Members of high distinction in the promotion of Hindi representing North America, Caribbean Islands and South American nations, nominated by Hindi Sangam Board of Trustees, would comprise the board of advisors. The Consul-General of India will be a permanent The proposal to establish Hindi Center was originally adopted by the First International Hindi Conference, held at the New York University campus on April 25-27, 2014. It was endorsed by International Hindi Conference, Mauritius through a similar resolution on October 30-Novermber 3, 2014. More than 250 delegates from various US and India and Canada based universities, businesses and educational institutions attended the three-day event, which comprised discussions on a verities of educational topics, such as, ‘Hindi for professional purposes’, Status of Hindi literature in the Indian Diaspora, Status of Hindi on the web, and Hindi story writing. A poets' conclave (Kavi Sammelan) and a two-hour play were also performed at the conference. 

Internationally renowned academicians and research scholars including Dr. Christi Merrill, University of Michigan, Dr. Mary Curran, Rutgers, Dr. Satya Santosh, Indian Institute of Delhi, Dr. Surendra Gambhir, UPenn, Dr. Gabriela Nik Ilieva, NYU, and Dr. Hemanti Bannerji, Wharton School of Business, presented their papers and took part in discussions. The papers are posted on the conference website. “Rutgers University was very encouraged by the enthusiasm of the conference participants”, said Asher Ghertner, Director of SASP, Rutgers University. “We would like strengthen our relationship with the Indian American community and Hindi Sangam”, he announced. Rutgers manages a number of programs about India thorough its departments and centers on diverse topics. Conference photographs with captions are attached. About Hindi Sangam Foundation: Established in 2014, the foundation is a non-profit enterprise created by NJ and NY based organizations. It has been set up for the sole purpose of providing a productive forum for all stakeholders to sit together, discuss and find pathways for the promotion of Hindi language and culture.For more information, contact:

Ashok Ojha

Managing Trustee and Event Coordinator.

Search

मेरा ब्लॉग

blogerright

मेरी किताबें

  Cover

 buy-now-button-2

buy-now-button-1

 

मेरी पुरानी वेबसाईट

मेरा पता

Prakash Hindustani

FH-159, Scheme No. 54

Vijay Nagar, Indore 452 010 (M.P.) India

Mobile : + 91 9893051400

E:mail : prakashhindustani@gmail.com